पाताल तक जाता है इस शिवलिंग पर चढ़ाया गया जल, यहां लक्ष्मण को दिए थे महादेव ने दर्शन

Header Banner

पाताल तक जाता है इस शिवलिंग पर चढ़ाया गया जल, यहां लक्ष्मण को दिए थे महादेव ने दर्शन

  Sat Jan 07, 2017 14:54        Devotional, Hindi, Travel

रायपुर. भगवान शिव के कई प्राचीन मंदिर अत्यंत रहस्यमय भी हैं। छत्तीसगढ़ के खरौद नगर में स्थित एक प्राचीन मंदिर में जिस शिवलिंग की पूजा की जाती है, उसके बारे में मान्यता है कि यहां से एक मार्ग पाताल तक जाता है। यह मंदिर रायपुर से करीब 120 किमी दूर है। मंदिर में भगवान भोलेनाथ लक्ष्मणेश्वर महादेव के नाम से विराजमान हैं। यह जानना भी दिलचस्प होगा कि मंदिर की कथा रामायण काल से जुड़ी है। 

श्रद्धालुओं की मान्यता है कि इस शिवलिंग में करीब एक लाख अतिसूक्ष्म छिद्र हैं। उनमें से एक छिद्र का संबंध पाताल लोक से है। यहां भगवान शिव पर जो भी जल अर्पित किया जाता है, वह सीधे पाताल लोक चला जाता है। इस विशेषता के कारण यह मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां दूर-दूर से श्रद्धालु भगवान शिव के पूजन के लिए आते हैं। खासतौर से श्रावण के सोमवार तथा महाशिवरात्रि के दिन यहां काफी भीड़ होती है।

शिवलिंग की विशेषताओं के कारण इसे श्रद्धालुओं ने कई नाम भी दिए हैं। एक लाख छिद्र होने के कारण इसे लक्षलिंग कहा गया। वहीं लक्ष्मणेश्वर महादेव का नाम भी धीरे-धीरे लखेश्वर महादेव हो गया। जो छिद्र पाताल तक जाता है, उसे अक्षय छिद्र कहा जाता है क्योंकि उसके संबंध में यह मान्यता है कि उसमें अर्पित किया गया जल कभी सूखता नहीं। 

एक अन्य कथा के अनुसार, भगवान श्रीराम के भाई लक्ष्मण भी यहां आए थे। यहां आकर उन्होंने शिवजी का पूजन किया था। इस घटना का संबंध रावण वध से है। जब श्रीराम ने रावण का वध कर दिया तो कई विद्वान ऋषियों ने उन्हें सलाह दी कि वे कोई आध्यात्मिक अनुष्ठान अवश्य करें। इसके लिए उन्होंने लक्ष्मणजी को दायित्व सौंपा कि वे तीर्थों के दर्शन कर उनके पवित्र कुंडों से जल लेकर आएं। 

आदेश का पालन करने के लिए लक्ष्मणजी विभिन्न तीर्थों के दर्शन करने गए। मार्ग में उन्हें थकान हुई। कुछ मान्यताओं के अनुसार, उनका स्वास्थ्य खराब हो गया तो वे रुक गए। यहां उन्होंने भगवान शिव की आराधना की। उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर शिवजी प्रकट हुए। इसके पश्चात वे लिंग रूप में यहां स्थाई वास करने लगे। लक्ष्मणजी के नाम पर ही यह शिवलिंग लक्ष्मणेश्वर कहलाया। धीरे-धीरे लोग इसे लखेश्वर महादेव के नाम से पूजन लगे।


   some beliefs,deteriorated,permanent habitat,began to worship